Sunday, December 6, 2015

बात

 

बनती  बनती, बात बिगङ गई

काश,  मैं जल्दीबाजी न करती

बुनने में, रिश्तों के महीन धागे।

© इला वर्मा 05/12/2015

4 comments: