चले थे खुशी बटोरने

लौटें

गम की झोली भरकर।

© इला वर्मा 13/11/2015

Leave a Reply