हाथ उठे खुदा की इबादत में
रूक गए
हुस्न की तारिफ में।

खुदा ने कबूल किया 
मुस्कुरा कर, याद कर
हम भी कभी जवां थे।


© इला वर्मा  06/11/2015
                                                     Source: Google

Leave a Reply