Menu

मन की आवाज

2 Comments


यह एक जिंदगी की नहीं
यह हर नारी की हार है
फिर से पराजित हुई नारी
हामी भरते हैं हम अपनी आधुनिकता व विकास पर
क्रद नहीं करती समाज नारी की
जुल्म की शिकार होती रहती है नारी
दोषी टहराते हम उसको हमेशा
हजारों उंगली उठाते उसकी अदा व पहनावे पर
पर बोलो क्या सुरक्षित है नारी परदे के पीछे।।
(मन की आवाज)
….© इला 2015
                                                                                                                                                                 

Tags: , , , , ,

2 thoughts on “मन की आवाज”

  1. I do agree with each and every word you have written with a deep thought of yours.

    Mohinder Paul Verma
    BloggingFunda – A Community of Bloggers
    http://goo.gl/udV0dZ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: