Saturday, May 7, 2016

बातें

बीती बातों का है अंबार
इजहार करने को मन है तैयार
पर
किस छोर से शुरू करें
किस डोर को ढीली करें
समझ पायें हम।।

विराम दिया, कुछ क्षण
लेखनी को
लगाम दिया
मन के आवेगों को
व्याकुलता तो है बहुत
उमंगो को रंग दें
पर
किसमे कितना रंग भरें
तय कर पाना है कठिन
इंतजार करते हैं कुछ पल
लेखनी को विराम देते है,
और कुछ पल ।।


© इला वर्मा 07-05-2016

1 comment:

  1. good one
    JOG FALLS BEST TRAVEL PLACE INDIA http://kaisestartkare.blogspot.com/2016/05/jog-falls-best-travel-place-india.html?spref=tw …

    can u guide me how we add lables like ur templae

    ReplyDelete