Tuesday, January 19, 2016

मिलेगें हम एक बार




रूबरू हुए हम

बीते पल से

सजते थे महफिल

हमारे दम पर।।

समय के चक्रवात ने

कर दिया चकनाचूर

संजोए उम्मीद सारे।।

दफन हो गये सब

ख्बाब हमारे

रह गए सिर्फ

अवसाद हमारे।।

एक आस है बाकि

कभी तो, कहीं तो

मिलेगें हम

एक बार।।


 © इला वर्मा 19-01-2016


No comments:

Post a Comment