Friday, November 6, 2015

हम भी कभी जवां थे


हाथ उठे खुदा की इबादत में
रूक गए
हुस्न की तारिफ में।

खुदा ने कबूल किया 
मुस्कुरा कर, याद कर
हम भी कभी जवां थे।

© इला वर्मा  06/11/2015

                                                     Source: Google

2 comments: