Thursday, November 5, 2015

ज्जबात


उनकी नजाकत से 

बेकाबू हुऐ दबे ज्जबात मेरे

दफन थे जो सालों से।


© इला वर्मा  05/11/2015



2 comments: