Saturday, July 25, 2015

हार नहीं मानेगें

लाख कोशिशें रंग ना ला सकी

हिम्मत ने साथ न देने की कसम खा ली है

पर वह नहीं जानती उसने अंजाने में

टक्कर ले ली है एक चट्टान से

जो टिका है हर जूल्म सह कर


हर एक वार ने उसे और मजबूत बना दिया


एक चाह जगा गया मुकाबले से मुकाबला करने का

डट कर सहेगें हर वार पर हार नहीं मानेगें

हट जा मेरे रास्ते से

ये तुम्हारी मंजिल नहीं

बदल दे अपना मकसद

भर दें जीवन के हंसी रंग

और शामिल हो जा मेरी खुशी में

फिर जाने न देगें तुझे कहीं

बना लेना आशियाना 

मेरे आशियाने में ।।


© Ila Varma 2015

Image Source: Google

No comments:

Post a Comment