Friday, July 24, 2015

अनिश्चित


" जिंदगी हम सब बहुत उत्साह से जीते है

  परन्तु मौत को इतनी नजदीक से देख कर लगता है, 

  इस क्षणभंगुर के पीछे हम इतनी लालायित क्युँ

 जो तय तो है पर ठिकाना पता नहीं

 वह कब अपने आगोश में हम सब को ले लेगा

इस अनिश्चित काल के लिए हम इतना निश्चिंत ।।" 




© Ila Varma 2015

                                                                                                                                                   Pic Courtesy: Google

No comments:

Post a Comment